Saturday, October 16 2021

September 17, 2021

पिछले सप्ताह खोज में मिले गुप्त काल के मंदिर पर मिली शंखलिपि क्या है जानें

उत्तर प्रदेश के एटा जिले के एक गाँव में गुप्त काल (5 वीं शताब्दी) के एक प्राचीन मंदिर के अवशेषों की एएसआई द्वारा पिछले सप्ताह खोज की गई थी । जहाँ शंखलिपि भी मंदिर की दीवार पर मिली थी ।
इस लिपि का उपयोग विद्वानों द्वारा अलंकृत सर्पिल वर्णों का वर्णन करने के लिए किया जाता है जिन्हें ब्राह्मी व्युत्पन्न माना जाता था जो या शंख की तरह दिखते हैं।
वे उत्तर-मध्य भारत में शिलालेखों में पाए जाते हैं और चौथी और आठवीं शताब्दी के बीच के हैं।ब्राह्मी और शंखलिपि दोनों ही शैलीबद्ध लिपियाँ हैं जिनका उपयोग मुख्य रूप से नाम और हस्ताक्षर के लिए किया जाता था । शंखलिपि नामों या सिंबल या दोनों का का संयोजन दिखती है।