Thursday, December 09 2021

November 1, 2021

झीलों को नया जीवन दे रहे हैं बेंगलुरु के आनंद मल्लिगावड

ग्लासगो में संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन कोप 26 के दौरान बेंगलुरु के भतपूर्व इंजीनियर आनंद मल्लिगावड विशेष चर्चा में हैं।
आनंद बेंगलुरु शहर में एक झील संरक्षणवादी और जल नायक हैं। उन्होंने एक पूर्णकालिक झील संरक्षणवादी बनने के लिए अपनी नौकरी छोड़ निरंतर प्रयासों के माध्यम से,बेंगलुरु में लगभग पांच झीलों को पुनर्जीवित किया है और शहर में बढ़ते जल संकट को कम करने के लिए 2025 तक लगभग 45 और झीलों को फिर से जीवंत करने की योजना है। आनंद का कहना है बेंगलुरु में हर साल 1,300 मिमी से 1,400 मिमी वर्षा होती है, लेकिन हम उस पानी को नालों में बहने देकर बर्बाद कर रहे हैं। हमें इस वर्षा जल को संग्रहित करने और इसका पुन: उपयोग करने के साथ-साथ वर्षा जल संचयन का अभ्यास करने की आवश्यकता है। इसके अलावा, हमें बेंगलुरु शहर में मौजूदा झीलों और जलाशयों को फिर से जीवंत करने की जरूरत है।
बेंगलुरु एक ऐसा शहर था जो अपनी झीलों और जलाशयों के लिए जाना जाता था। वर्षों से, तेजी से शहरीकरण ने बेंगलुरु को झीलों के शहर से कंक्रीट के शहर में बदल दिया, इससे शहर में पानी का गंभीर संकट पैदा हो गया था । अपने घर तक पानी पहुंचाने के लिए लाखों लोग अक्सर निजी टैंकरों पर निर्भर रहते हैं। अन्य अपनी दैनिक पानी की जरूरतों को पूरा करने के लिए अनधिकृत कुओं की खुदाई का सहारा लेते हैं। 2017 NITI Aayog की रिपोर्ट के अनुसार, बेंगलुरु उन 11 शहरों में से एक था जहां 2020 तक भूजल स्तर खत्म हो गया था। लेकिन जल नायकों और जल संरक्षणवादियों के निरंतर प्रयासों के कारण, पानी की स्थिति में सुधार हुआ है।